Kalka Shimla Track: नए साल में विस्‍टाडोम कोच में निहारें हिमाचल की वादियां, हेरिटेज ट्रैक पर चलेगी खास ट्रेन

Kalka Shimla Rail Track, विश्व धरोहर कालका-शिमला रेल ट्रैक पर पर्यटक जल्द ही आधुनिक तकनीक व सुविधाओं से युक्त पारदर्शी कोच (विस्टाडोम) में हिमाचल की वादियों को निहार सकेंगे। फायर अलार्म और सीसीटीवी कैमरों की सुविधा के अलावा इसमें घूमने वाली आरामदायक सीटें होंगी। इसको लेकर कालका से धर्मपुर रेलवे स्टेशन तक ट्रायल शुरू हो गया है, जो 13 दिसंबर तक चलेगा।

Source : More...
next
Russia Ukraine Tension: कीव में बर्फबारी, बिजली संकट से बढ़ी चिंता, जानें- क्‍या पड़ेगा यूक्रेन जंग पर असर

यूक्रेन जंग के बीच राजधानी कीव में भारी बर्फबारी ने लोगों की चिंता बढ़ा दी है। कीव में भारी बर्फबारी के बीच यहां लोगों को भारी बिजली संकट का सामना करना पड़ रहा है। देशभर में ब्‍लैकआउट की स्थिति उत्‍पन्‍न हो गई है। रूसी सेना के हमलों से यूक्रेन में ऊर्जा संयंत्रों को भारी नुकसान हुआ है। कीव में दिन और रात में न्‍यूनतम तापमान शून्‍य से एक डिग्री सेल्सियस नीचे दर्ज किया गया है। यही कारण है कि कीव में सर्दियों में ऊर्जा की भारी खपत होती है। यूक्रेन जंग में ऊर्जा संयंत्रों के नष्‍ट होने के कारण महज चार घंटे विद्युत आपूर्ति हो रही है। इससे लोग जंग और ठंड दोनों से एक साथ जूझ रहे हैं। ऐसे में सवाल उठता है क‍ि क्‍या इस बर्फबारी का यूक्रेन जंग पर कोई प्रभाव पड़ेगा। यूक्रेनी राष्‍ट्रपति की क्‍या है बड़ी चिंता।

Source : More...
next
Road Safety: पंजाब से लेकर झारखंड तक सड़कें असुरक्षित उप्र, बिहार, मप्र में ब्लैक स्पाट हैं बड़ा खतरा

सुरक्षित यात्रा के मामले में भारत की स्थिति अत्यंत गंभीर है। रोड एक्सीडेंट में सर्वाधिक मौतें हमारे ही देश में होती हैं, लगभग हर चार मिनट में एक मौत। इन भागती दौड़ती सड़कों पर निर्माण, सुविधा और सुरक्षा की समीक्षा महाअभियान में दैनिक जागरण ने बीते दिनों देश के 11 राज्यों में विशेषज्ञों के साथ रोड आडिट किया। इस आडिट में पंजाब से लेकर झारखंड तक सड़कें यातायात के लिए पूरी तरह से सुरक्षित नहीं मिलीं। उत्तर प्रदेश, बिहार और मध्य प्रदेश जैसे बड़े प्रदेशों में सड़कों का संजाल बढ़ा है, लेकिन ब्लैक स्पाट बड़ा खतरा हैं। पढ़िए यह समग्र रिपोर्ट जो बताती है कि इन राज्यों में असुरक्षित सड़कें कितनी बड़ी समस्या हैं। ये आंकड़ें सड़क और परिवहन से संबंधित विभागों के मंत्रियों और अधिकारियों तक भी पहुंचाए जा रहे हैं क्योंकि हर जिंदगी बचाना बेहद जरूरी है।

Source : More...
next
Mann Ki Baat: जानिए, कौन है झारखंड का लाइब्रेरी मैन, पीएम मोदी ने 'मन की बात' में की उनकी सराहना

Mann Ki Baat, Library Man of Jharkhand प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मन की बात में रविवार को झारखंड के लाइब्रेरी मैन संजय कच्छप की सराहना की। मन की बात में प्रधानमंत्री ने संजय की लाइब्रेरी के बारे में जिक्र किया। पीएम के मन की बात को रांची के 700 बूथों में भाजपा के नेता व कार्यकर्ताओं ने सुना।

Source : More...
next
बंगाल के नदिया जिले की रहने वाली तीन फीट की पियाशा महलदार का कद औरों से कहीं ऊंचा

शारीरिक कद-काठी की बात करें तो 25 साल की पियाशा महलदार तीन फुट से भी कम हैं, लेकिन विषम परिस्थितियों से जूझते हुए उन्होंने जो कुछ हासिल किया, उनका कद काफी ऊंचा है। उनकी उपलब्धि ने पहले तो सबको अचंभित किया और फिर सबको प्रेरित किया। पियाशा बंगाल के नदिया जिले की रहने वाली हैं। जन्मजात फोकोमेलिया के ग्रसित होने की वजह से वह विकृत अंगों की शिकार हैं। यह एक दुर्लभ जन्म दोष है, जिसमें हाथ और पैर की हड्डियां बेहद छोटी रह जाती हैं।

Source : More...
next
डच स्वर्ण युग के बहुचर्चित कलाकार रैंब्रांट द्वारा समुद्र के रास्ते लघु चित्रकला का सफर

वर्ष 1650 में डच स्वर्ण युग के मास्टर कलाकार रैंब्रांट हारमनजून फान रैन ने कुछ चित्रों का सेट तैयार किया था जो कि सत्रहवीं शताब्दी की शुरुआत में बनाए गए मुगलकालीन लघु चित्रों पर आधारित थे। इस सेट में मुगल बादशाह शाहजहां, जहांगीर, दारा शिकोह और अन्य मुगल दरबारियों के चित्र शामिल हैं। गैर-पश्चिमी कलाकृतियों के साथ रैंब्रांट के जुड़ाव को दर्शाने वाला यह सबसे महत्वपूर्ण काम है। साथ ही रैंब्रांट के संपूर्ण काम में दूसरों के बनाए गए चित्रों की अनुकृतियों का यह सबसे बड़ा संकलन है। इस सेट में वर्तमान में कुल 23 चित्र शेष रह गए हैं, जो दुनिया भर के विभिन्न संग्रहालयों में रखे हुए हैं, जिनमें ब्रिटिश म्यूजियम, क्लीवलैंड म्यूजियम आफ आर्ट, जे. पाल गेटी म्यूजियम, रिक्स म्यूजियम और कई निजी संग्रहालय शामिल हैं।

Source : More...
next
Uttarakhand Tourism: देहरादून के पास स्थित इस झील को आपका इंतजार, बोटिंग संग विदेशी परिंदों का होगा दीदार

देहरादून के नजदीक कई पर्यटक स्‍थल हैं, लेकिन आज हम आपको एक ऐसी झील के बारे में बताने जा रहे हैं। जहां आप प्रकृति के बीच कुछ समय बीता सकते हैं।

Source : More...
next
Purnima Vrat: साल की आखिरी पूर्णिमा 7 दिसंबर को, बेहद खास है यह व्रत, राशि अनुसार उपाय से पूरी होगी हर इच्‍छा

Margashirsha Purnima Vrat 2022, वर्ष 2022 का अंतिम मार्गशीर्ष पूर्णिमा का व्रत इस बार 7 दिसंबर को होगा। सनातन धर्म एवं हिंदू धर्म में मार्गशीर्ष पूर्णिमा का बहुत अधिक महत्व है। यह माह भगवान श्रीकृष्ण का सबसे प्रिय माह माना जाता है। मार्गशीर्ष पूर्णिमा काे भगवान श्रीकृष्ण की पूजा करने और व्रत रखने से परेशानियों से मुक्ति मिलती है। मान्यता है कि यदि कोई व्यक्ति पूरे विश्वास और श्रद्धा से इस व्रत को करता है तो वह इसी जन्म में मोक्ष प्राप्ति कर सकता है। पूर्णिमा के दिन चंद्रमा अपने पूर्णत्व की स्थिति में होता है। वहीं मार्गशीर्ष पूर्णिमा मोक्षदायिनी पूर्णिमा कहलाती है।

Source : More...
next
Bihar News: मलखानचक में मोहन भागवत; गांधी व भगत सिंह से जुड़े इस गांव को लेकर अंग्रेज भी रहे थे कंफ्यूज

राष्‍ट्रीय स्‍वयंसेवक संघ (RSS) के सर संघसंचालक मोहन भागवत रविवार को बिहार के सारण जिला स्थित मलखाचक गांव में थे। वहां वे संघ के कार्यक्रमों में शामिल हुए। इसके साथ ही सवाल यह है कि भागवत के कार्यक्रम के लिए आरएसएस ने मलखानचक गांव को क्‍यों चुना? इस गांव को आज बिहार में भी लोग कम जानते हैं, लेकिन स्‍वतंत्रता आंदोलन के दौर में अंग्रेज इस बात पर संशय में थे कि यह गांव हिंसात्मक आंदोलन का गढ़ है या अहिंसात्मक आंदोलन का। यहां महात्मा गांधी और पंडित नेहरू के साथ-साथ क्रांतिकारी भगत सिंह व चंद्रशेखर आजाद आदि भी सक्रिय रहे थे।

Source : More...
next
Dehradun News: अनूठी है जौनसार-बावर की संस्कृति, कोरुवा में पंचायती आंगन में नचाया काठ का हिरन

अनूठी संस्कृति के लिए विख्‍यात जौनसार-बावर की बूढ़ी दीपावली की रंगत और चटख हो गई है। शनिवार को कोरुवा गांव में दीपावली की रंगत देखने लायक थी। पंचायती आंगन में सामूहिक रूप से पारंपरिक लोकनृत्य ने हर किसी को मंत्रमुग्ध किया।

Source : More...
next